150+ Bewafa Shayari | Bewafa Shayari in Hindi

Bewafa Shayari - कितना आसान होता है न किसी से मोहब्बत करना लेकिन काश उतना ही आसान होता मोहब्बत को भूल पाना।  ऐसे बहुत सारे लोग जो कभी न कभी कहीं न कहीं प्यार  जरूर करते है लेकिन आखिर में उनको सिर्फ देखा ही मिलता है। 

अगर आपने भी कभी किसी से मोहब्बत की थी और उस बेवफा ने आपको छोड़ दिया है तो में आपका दुःख समझ  सकता हूँ।  आज की ये bewafa shayari पर लेख  सिर्फ उन बेवफाओ के लिए जो एक सच्चे मोहब्बत करने वाले  को छोड़ देते है। 


आप इस bewafa shayario को आखिर तक जरूर पड़े क्यूंकि मेने इन शायरियों में उन सब दुखो को पिरोया है जो एक व्यक्ति देखा मिलने के बाद महसूस करता है।



Bewafa Shayari

Bewafa Shayari

वो मिली भी तो क्या मिली बन के बेवफा मिली, इतने तो मेरे गुनाह ना थे जितनी मुझे सजा मिली।

अब के अब तस्लीम कर लें तू नहीं तो मैं सही, कौन मानेगा कि हम में से बेवफा कोई नहीं।

मेरे कलम से लफ्ज़ खो गए सायद, आज वो भी बेवफा हो गाए सायद, जब नींद खुली तो पलकों में पानी था, मेरे ख्वाब मुझपे रो गाए सायद। 

तेरा ख्याल दिल से मिटाया नहीं अभी, बेवफा मैंने तुझको भुलाया नहीं अभी।

बहुत अजीब हैं ये मोहब्बत करने वाले, बेवफाई करो तो रोते हैं और वफा करो तो रुलाते हैं।

मेरे फन को तराशा है सभी के नेक इरादों ने, किसी की बेवफाई ने किसी के झूठे वादों ने।

मोहब्बत का नतीजा दुनिया में हमने बुरा देखा, जिन्हे दावा था वफा का उन्हें भी हमने बेवफा देखा। 

हमसे न करिये बातें यूँ बेरुखी से सनम, होने लगे हो कुछ-कुछ बेवफा से तुम।

यूँ है सबकुछ मेरे पास बस दवा-ए-दिल नही, दूर वो मुझसे है पर मैं उस से नाराज नहीं, मालूम है अब भी मोहब्बत करता है वो मुझसे, वो थोड़ा सा जिद्दी है लेकिन बेवफा नहीं।


Bewafa Shayari in Hindi


खुदा ने पूछा क्या सज़ा दूँ उस बेवफ़ा को, दिल ने कहा मोहब्बत हो जाए उसे भी।

हमारे हर सवाल का सिर्फ एक ही जवाब आया, पैगाम जो पहूँचा हम तक बेवफा इल्जाम आया।

हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला, हमको जो भी मिला बेवफा यार मिला, अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी, हर कोई मकसद का तलबगार मिला।

मेरी निगाहों में बहने वाला ये आवारा से अश्क पूछ रहे है पलकों से तेरी बेवफाई की वजह।

जाते-जाते उसके आखिरी अल्फाज़ यही थे, जी सको तो जी लेना मर जाओ तो बेहतर है।

तुम समझ लेना बेवफा मुझको, मै तुम्हे मगरूर मान लूँगा, ये वजह अच्छी होगी , एक दूसरे को भूल जाने के लिये। 

तूने ही लगा दिया इलज़ाम-ए-बेवफाई, अदालत भी तेरी थी गवाह भी तू ही थी।

मिल ही जाएगा कोई ना कोई टूट के चाहने वाला, अब शहर का शहर तो बेवफा हो नहीं सकता।

जिस किसीको भी चाहो वोह बेवफा हो जाता है, सर अगर झुकाओ तो सनम खुदा हो जाता है, जब तक काम आते रहो हमसफ़र कहलाते रहो, काम निकल जाने पर हमसफ़र कोई दूसरा हो जाता है…


Bewafa Ki Shayari 


सीख कर गया है वो मोहब्बत मुझसे, जिस से भी करेगा बेमिसाल करेगा।

रुशवा क्यों करते हो तुम इश्क़ को, ए दुनिया वालो, मेहबूब तुम्हारा बेवफा है, तो इश्क़ का क्या गनाह।

कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी, कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी, बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने, आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी। 

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया, गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया।

क्या जानो तुम बेवफाई की हद दोस्तों, वो हमसे इश्क सीखती रही किसी ओर के लिए।

बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम, अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा।

प्यार में बेवाफाई मिले तो गम न करना, अपनी आँखे किसी के लिए नम न करना, वो चाहे लाख नफरते करें तुमसे, पर तुम अपना प्यार कभी उसके लिए कम न करना।

आप बेवफा होंगे सोचा ही नहीं था, आप भी कभी खफा होंगे सोचा नहीं था, जो गीत लिखे थे कभी प्यार में तेरे, वही गीत रुसवा होंगे सोचा ही नहीं था।

सिर्फ एक ही बात सीखी इन हुस्न वालों से हमने​​, ​हसीन जिसकी जितनी अदा है वो उतना ही बेवफा है।

Best Bewafa Shayari


मैंने भी किसी से प्यार किया था, उनकी रहो में इंतजार किया था। हमें क्या पता वो भूल ज्यांगे हमें कसूर उनका नहीं मेरा ही था, जो एक बेवफा से प्यार किया था !!

पहले इश्क फिर धोखा फिर बेवफ़ाई, बड़ी तरकीब से एक शख्स ने तबाह किया।

हमारी तबियत भी न जान सके हमे बेहाल देखकर, और हम कुछ न बता सके उन्हें खुशहाल देखकर।

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया, गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया।

चलो छोड़ो ये बहस कि वफ़ा किसने की और बेवफा कौन है, तुम तो ये बताओ कि आज 'तन्हा' कौन है !!

मत रख हमसे वफा की उम्मीद ऐ सनम, हमने हर दम बेवफाई पायी है, मत ढूंढ हमारे जिस्म पे जख्म के निशान, हमने हर चोट दिल पे खायी है।

रोये कुछ इस तरह से मेरे जिस्म से लग के वो, ऐसा लगा कि जैसे कभी बेवफा न थे वो।

ये बेवफा, वफा की कीमत क्या जाने, ये बेवफा गम-ए-मोहब्बत क्या जाने, जिन्हे मिलता है हर मोड पर नया हमसफर, वो भला प्यार की कीमत क्या जाने। 

मेरी वफा के बदले बेवफाई न दिया कर, मेरी उम्मीद ठुकरा के इन्कार न किया कर, तेरी मोहब्बत में हम सब कुछ गँवा बैठे, जान भी चली जायेगी इम्तिहान न लिया कर।


Hindi Bewafa Shayari


उन्हें एहसास हुआ है इश्क़ का हमें रुलाने के बाद, अब हम पर प्यार आया है दूर चले जाने के बाद, क्या बताएं किस कदर बेवफ़ा है यह दुनिया, यहाँ लोग भूल जाते हैं किसी को दफनाने के बाद।

तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी, वरना हमको कहाँ तुम से शिकायत होगी, ये तो वही बेवफ़ा लोगों की दुनिया है, तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी।

अरे बेपनाह मोहब्बत की थी हमने तुझसे ओ बेवफा ! तुझे दुःख दूं ये न होगा कभी खुद मर जाऊं  यहीं ठीक है !!

रहने दे ये किताब तेरे काम की नहीं, इस में लिखे हुए हैं वफाओं के तज़करे।

ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना, मेरे भरोसे को रुस्वा न करना, दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना, मेरे दिल में रहकर बेवफाई न करना।

वफ़ा निभा के वो हमे कुछ दे ना सके, पर बहुत कुछ दे गये जब वो बेवफा हुए। 

आज हम उनको बेवफा बताकर आए हैं, उनके खतो को पानी में बहाकर आए हैं, कोई निकाल न ले उन्हें पानी से.. इस लिए पानी में भी आग लगा कर आए हैं।


नजर नजर से मिलेगी तो सर झुका लेगा, वह बेवफा है मेरा इम्तिहान क्या लेगा, उसे चिराग जलाने को मत कह देना, वह नासमझ है कहीं उंगलियां जला लेगा।


सिखा मुझसे ही मेरी मोहब्बत ने मोहब्बत करने का हुन्नर ! आज मेरी मोहब्बत गैरों से मोहब्बत रचा बैठी !!


Bewafa Shayari for her 


फूलों के साथ काँटे नसीब होते हैं, ख़ुशी के साथ ग़म भी नसीब होता है, यूँ तो मजबूरी ले डूबती हर =आशिक को, वरना खुशी से बेवफ़ा कौन होता है?


गहराई प्यार में हो तो बेवफाई नहीं होती, सच्चे प्यार में कहीं तन्हाई नहीं होती, मगर प्यार ज़रा संभल कर करना मेरे दोस्त, प्यार के ज़ख्म की कोई दवा नहीं होती।


कभी ग़म तो कभी तन्हाई मार गयी, कभी याद आ कर उनकी जुदाई मार गयी, बहुत टूट कर चाहा जिसको हमने, आखिर में उनकी ही बेवफाई मार गयी।

हमें तो कबसे पता था की तू बेवफ़ा है ! तुझे चाहा इसलिए कि शायद तेरी फितरत बदल जाये !!


इतनी मुश्किल भी ना थी राह मेरी मोहब्बत की, कुछ ज़माना खिलाफ हुआ कुछ वो बेवफा हो गए।


जब तक न लगे एक बेवफाई की ठोकर, हर किसी को अपने महबूब पे नाज़ होता है।


लफ्ज़ वही हैं, माईने बदल गये हैं ! किरदार वही, अफ़साने बदल गये हैं ! उलझी ज़िन्दगी को सुलझाते सुलझाते ! ज़िन्दगी जीने के बहाने बदल गये हैं !!


उसने महबूब ही तो बदला है फिर ताज्जुब कैसा, दुआ कबूल ना हो तो लोग खुदा तक बदल लेते है।


बेवफाओं की इस दुनियां में संभलकर चलना, यहाँ मुहब्बत से भी बर्बाद कर देते हैं लोग।


Sad Bewafa Shayari


तुम अगर याद रखोगे तो इनायत होगी ! वरना हमको कहां तुम से शिकायत होगी ! ये तो बेवफ़ा लोगों की दुनिया है ! तुम अगर भूल भी जाओ जो रिवायत होगी !!


तेरी चौखट से सिर उठाऊं तो बेवफा कहना, तेरे सिवा किसी और को चाहूँ तो बेवफा कहना,. 


किसी का रूठ जाना और अचानक बेवफा होना, मोहब्बत में यही लम्हा क़यामत की निशानी है।


किसी को इतना भी न चाहो कि भुला न सको क्योंकि, ‪ज़िंदगी_इन्सान_और_मोहब्बत_तीनों_बेवफा‬ हैं !!


तुम बदले तो मजबूरियाँ थी, हम बदले तो बेवफ़ा हो गए।


मेरी वफाओं पे शक है तो खंजर उठा लेना, मैं शौक से मर ना जाऊं तो बेवफा कहना।


आखिरी शब्द  

आशा करता हूँ की आपको ये best bewafa shayari पसंद आयी होंगी। अगर आपको ये bewafa shayari in hindi पसंद आयी हो तो इनको अपने स्टेटस और स्टोरी पर जरूर शेयर करे और हमें कमेंट में बताये की आपकी बेवफा का किया रिएक्शन था।  अगर आप भी लिखते है तो हमें कमेंट करके बताये अगर आपका लिखा हमें पसंद आया तो हम उसको इस bewafa shayari के लेख में जरूर लिखेंगे। 

इन्हे भी देखे: 


    Post a Comment

    0 Comments